एवरी वुमन ट्रिटी महिलाओं और लड़कियों के प्रति हिंसा को समाप्त करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय संधि के लिए एक वैश्विक अभियान है।


हमारी कहानी

“महिलाओं के प्रति हिंसा के संबंध में किसी कानूनी रूप से किसी विशिष्ट बाध्याकारी व्यवस्था के न होने पर मैं देश की सरकार को कैसे जवाबदेह बना सकता हूं?”- महिलाओं के प्रति हिंसा के संबंधित पूर्व संयुक्त राष्ट्र संघ दूत, राशिदा मंजू, 2012; एवरी वुमन सलाहकार

 

महिलाओं के प्रति हिंसा और पूरी दुनिया में होने वाली हिंसा के दैनिक मुख्य समाचारों के प्रति चिंता व्यक्त करते हुए, महिलाओं के अधिकारों के प्रति काम करने वाले महिलाओं के एक समूह द्वारा संधि की आवश्यकता पर चर्चा करने के लिए 3 जून 2013 को हार्वर्ड्स कार सेंटर फार ह्यूमन राइट्स में बैठक का आयोजन किया गया।

“यह बैठक बहुत महत्वपूर्ण थी। बैठक में शामिल होने वाले अधिवक्ताओं में- एक वैश्विक समूह शामिल था जिसमें बलात विवाह विशेषज्ञा विद्या श्री, महिला अधिकार कार्यकर्ता लीसा शैनोन, तथा मानवाधिकार विशेषज्ञ चार्ली क्लेमेंट्स शामिल थे- उन्होंने इस बात पर सहमति व्यक्त की थी कि महिलाओं और लड़कियों के प्रति हिंसा से संबंधित संधि से कानूनी अवसंरचना में अंतरालों को दूर किया जा सकेगा और जिसके परिणामस्वरूप पूरी दुनिया में महिलाओं को बेहतर संरक्षा मिल सकेगी।

“लीज़ा और विद्या ने प्रयास की अगुवाई करने के लिए सहमति व्यक्त की तथा वैश्विक कार्यशील समूह की स्थापना करने के लिए दो वर्ष का समय पूरी दुनिया के महिला अधिकार कार्यकर्ताओं से संपर्क करने में व्यतीत किया। विभिन्न क्षेत्रों जैसे महिला सशक्तीकरण तथा निर्धनता उन्मूलन, विधवाओं की कानूनी स्थिति और अधिकार में काम करने वाले अधिवक्ता, स्वदेशी लोग, अन्य एक जुट हुए और एवरीवुमन एवरीव्हेयर के मूल नाम के अंतर्गत 2015 में हर महिला की संधि की शुरूआत की गई।

“विद्या और लीज़ा के नेतृत्व में कार्यशील समूह द्वारा संधि की नींव की स्थापना करने के लिए अगले तीन वर्ष का समय लिया गया। उन्होंने समूह की सदस्य संख्या को बढ़ाकर 127 विशेषज्ञों तक किया जिसमें दुनिया के हर क्षेत्र से प्रतिनिधियों – संधि के विकास में महिला नेतृत्व का अभूतपूर्व और अद्वितीय स्तर तथा वैश्विक समावेशन किया गया था। और संधि के विकास के संबंध में विस्तृत नीतिगत कार्य किए गए।

2018 के अंत में, हर महिला की संधि द्वारा अपने विकास चरण से आगे बढ़कर सार्वजनिक अभियान की शुरूआत की गई: महिलाओं और लड़कियों के प्रति हिंसा को समाप्त करने के लिए संधि के आह्वान का विस्तार करने के लिए एक वैश्विक पहल।